कुत्तों की बीमारिया एव लक्षण और बचाव l कुत्ते का इलाज कैसे करें

कुत्ते एक वफादार हैं l वर्षो से इन्सान और कुत्ते खास दोस्त रहते आ रहे हैं l कुत्ते अपने मालिक की हर हालत मैं साथ देता हैं और उनकी हरेक भावना को समजता हैं l शायद दुनिया मै एसे कम ही पालतू जानवर होंगेl जब कुत्ता आपका ख्याल रखता हैं तो आपको भी उनके मालिक होने का फर्ज निभाना पड़ता हैं l आपको कुत्तो की बीमारिया का ख्याल रखना चाहिए और उनकी बचाव के लिए कुते का इलाज करना चाहिए l

कई सरे लोग कुत्ता तो घर पर ले आते हैं पर उनमे से कई लोग हैं जिसे कुत्ते की बीमारिया के बारे मैं पता नहीं होता l इस कारन कुत्ता को खो देते हैं l तो चलिए आज हम कुत्तों की बीमारिया एव लक्षण और कुत्ते का इलाज कैसे करें सब कुछ जानते हैं l

कुत्तों की बीमारिया एव लक्षण और बचाव

कुत्ते की उल्टी होना और इलाज  

कुत्ते को उलटी होना कुत्तो की बीमारिया मैं से एक है l कुत्तो को कई कारणों से उल्टी हो सकती है l अगर आपके कुत्ते को भी एसा हो रहा हैं तो हमने कुछ कुत्ते की उल्टी की घरेलु इलाज बताये हैं l

अपने कुत्ते को उपवास करो

जेसे इन्सान उपवास कटे हैं वेसे ही अपने कुत्ते को भी उपवास करवाना चाहिए इस से कुत्ते को जठरांत्र संबंधी मार्ग को ठीक होने के लिए कुछ आराम और समय देगा। कुत्तों के लिए 24 घंटे का उपवास आवश्यक होता है, जबकि पिल्लों को 12 घंटे से अधिक उपवास नहीं करवाना  चाहिए।

अपने कुत्ते को एक नरम आहार खिलाएं।

अगर उपवास से कूटे की उलटी बंध हो गयी हैं तो उनको खाने मैं नरम और हल्का भोजन देना चाहिए l और अपने सामान्य भोजन को हटा दें और उबला हुआ चिकन और चावल या उबले हुए ग्राउंड बीफ़ और चावल के साथ बदलें।

किसी भी तरह से, चावल को भोजन का बड़ा हिस्सा बनाना चाहिए – मांस सिर्फ कुत्ते के लिए मोहक बनाने के लिए है। कुत्ते को बेहतर होने तक यह आहार देते रहें। फिर, अगले कुछ दिनों में, धीरे-धीरे अपने नियमित भोजन को फिर से शुरू करें सकते हैं ।

मसूड़ों की जाँच करें।

अगर उसके मसूड़े पीले, सफेद, भूरे या बैंगनी रंग के हो जाते हैं, तो उसे तुरंत देख लें। एक सामान्य गम का रंग एक स्वस्थ बबल-गम गुलाबी होना चाहिए। अपनी उंगली को उसके गम पर दबाएं; उंगली के निशान को सफेद और फिर गुलाबी होना चाहिए। अगर गम को गुलाबी होने में कुछ सेकंड लगते हैं, तो कुत्ते को जल्द से जल्द देखने की जरूरत है। यह एनीमिया, जहर या ब्लोट का संकेत हो सकता है।

ये भी पोस्ट पढ़े :-

डॉग एलर्जी एव इलाज – कुत्तो की बीमारिया

स्किन एलर्जी के कारण डॉग के त्वचा को नुक़सान तो पहुंचता ही है इसके साथ साथ बालों को भी काफ़ी हानि होती हैं एवम बाल झड़ने जैसी समस्याएं भी होती हैं।

डॉग एलर्जी ट्रीटमेंट खुजली का ईलाज कैसे करें ?

डॉग में होने वाले स्किन इन्फेक्शन का ज्यादतर कारण उनके शरीर व रहने वाले स्थान पर मौजूद गंदगी होती हैं तो आपको यह सुनिश्चित करना जरूरी है कि आप अपने डॉग की शारिरीक सफ़ाई।

जैसे बालों की कंगी कान, नाख़ून, पैर इन सभी महत्वपूर्ण अंगों की सफाई का विशेष ध्यान रखें इसके अलावा उनके सोने के स्थान को, बिस्तर, खिलौने, गले के पट्टे, खाने के बर्तन को नियमित साफ़ करें।

बाल झड़ना एव इलाज

कुत्तों के बाल झड़ने की प्रक्रिया बहुत ही सामान्य होती है और यह बिल्‍कुल इंसानों की तरह ही होती है. लेकिन अगर उनके बाल बहुत ज्‍यादा झड़ रहे हैं तो ये एक चिंता का विषय हो सकता है. कुत्‍तों में बाल झड़ने की समस्‍या एलर्जी, कुशिंग रोग, जेनेटिक्‍स, किसी तरह के इनफेक्‍शन, पंजों या फिर बालों के नीचे की त्‍वचा पर दाद और इन वजहों से झड़ सकते हैं.

कुत्ते को बाल झड़ने बचने के लिए ‌‌‌कुत्ते के बालों मे कंघी करें, कुत्ते के आहार को बदलें,और नहलाते समय पानी मैं  नीबू डाले ,और नहलाने के बाद आप कुत्ते को ऑलिव ऑयल लगा के कुत्ते का बाल झड़नारोक सकते हो l

गठिया – कुत्तो की बीमारिया

गठिया जोड़ों की सूजन है, और यह पुराने कुत्तों में एक बहुत ही आम स्वास्थ्य समस्या है। स्थिति दर्द और कठोरता का कारण बन सकती है, जिससे कुत्ते की व्यायाम करने की क्षमता प्रभावित होती है।

इसका इलाज दवा, भौतिक चिकित्सा और होम्योपैथिक उपचार से किया जा सकता है। कुत्तों के लिए ग्लूकोसामाइन गठिया के लक्षणों को रोकने और कम करने में भी बहुत प्रभावी पाया गया है।

मोटापा

हाल के आंकड़ों के अनुसार, लगभग 60% कुत्ते या तो अधिक वजन वाले या मोटे हैं। मोटापा कुत्ते के कुछ प्रकार के कैंसर, गठिया, मधुमेह, हृदय रोग और उच्च रक्तचाप के जोखिम को बढ़ाता है।

कुत्ते के मोटापे से बचने और उसका इलाज करने का सबसे आसन  तरीका है कि आप अपने कुत्ते को स्वस्थ आहार दें और उन्हें नियमित व्यायाम दें। उन्हें अधिक मात्रा में खिलाने के आग्रह से बचें क्योंकि कुत्तों को हमसे बहुत कम कैलोरी की आवश्यकता होती है। अपने कुत्ते के भोजन या व्यायाम दिनचर्या को बदलने से पहले अपने पशु चिकित्सक से परामर्श करना सबसे अच्छा है।

दंत रोग

कुत्तों में दांतों की बीमारी अलग-अलग हो सकती है, लेकिन यह आमतौर पर अशुद्ध मुंह का परिणाम होता है। हिल्स पेट न्यूट्रिशन के अनुसार, 80% कुत्तों में दो साल की उम्र तक दंत रोग के कुछ लक्षण होंगे। पीरियोडोंटल रोग, जिसे मसूड़े की बीमारी के रूप में भी जाना जाता है, सबसे आम रूप है और यह बीए के कारण होता है

कुत्ते के दांत बैक्टीरिया से इतने सड़े हुए हो सकते हैं कि उन्हें जबड़े और खोपड़ी में संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए सर्जिकल हटाने की आवश्यकता होती है। मुंह की बीमारी को रोकने का सबसे अच्छा तरीका नियमित कुत्ते की दंत चिकित्सा देखभाल है।

एलर्जी

ये बीमारी कुत्तो की बीमारिया मैं सबसे ज्यादा होने वाली बिमराया मैं से एक हैं l

कुत्तों में त्वचा एलर्जी खाद्य एलर्जी आम है, और उन्हें नियमित रूप से प्रबंधित किया जाना चाहिए। अधिकांश त्वचा एलर्जी खुद को एटोपिक जिल्द की सूजन के रूप में प्रकट करती है – लाल, खुजली वाली, पपड़ीदार त्वचा जो आपके कुत्ते को अत्यधिक खरोंच का कारण बनती है।

इंसानों की तरह, कई कुत्ते वसंत और गर्मियों के दौरान त्वचा एलर्जी के नैदानिक ​​लक्षण दिखाते हैं जब एलर्जी प्रचुर मात्रा में होती है और मौसमी भड़क उठती है।

एलर्जी को ठीक नहीं किया जा सकता है, लेकिन वे आसानी से प्रबंधनीय हैं। त्वचा एलर्जी का इलाज दवाओं के साथ किया जा सकता है, जैसे कुत्तों के लिए बेनाड्रिल, जबकि खाद्य एलर्जी के लिए एक निर्देशात्मक आहार की आवश्यकता हो सकती है।

त्वचा में संक्रमण और हॉट स्पॉट

त्वचा में संक्रमण आमतौर पर तब होता है जब कुत्ते को खरोंच या घर्षण होता है, तो बैक्टीरिया घाव को संक्रमित कर देता है। यह लालिमा, सूजन, खुजली और जलन पैदा कर सकता है, जिसके परिणामस्वरूप “गर्म स्थान” हो सकता है।

अपने कुत्ते को त्वचा के संक्रमण से बचने में मदद करने का सबसे अच्छा तरीका है कि आप उन्हें नियमित रूप से नहलाएं और यदि आपके कुत्ते को खरोंच या घर्षण होता है तो पशु चिकित्सा सहायता लें।

कान के संक्रमण

कान के संक्रमण कई पर्यावरणीय और वंशानुगत कारकों के कारण हो सकते हैं, जिनमें एलर्जी, ऑटोइम्यून विकार, कान में मोम का निर्माण और यहां तक कि अत्यधिक सफाई भी शामिल है। कुत्ते अक्सर कान के संक्रमण के लक्षण दिखाते हैं जब वे अपने सिर को अत्यधिक खरोंचते हैं या हिलाते हैं। गंध, गहरे रंग का स्राव, और कान नहर में लालिमा या सूजन भी कान के संक्रमण के लक्षण हो सकते हैं।

पशु चिकित्सक के निदान के बाद, कुत्ते के कान के संक्रमण का इलाज आमतौर पर एक औषधीय सफाई करने वाले, सामयिक दवा, या संभवतः मौखिक एंटीबायोटिक दवाओं और विरोधी भड़काऊ दवाओं के साथ किया जाता है। अमेरिकन केनेल क्लब के अनुसार, कुत्तों में अधिकांश कान संक्रमण एक से दो सप्ताह के भीतर हल हो जाते हैं।

कुत्ते को कौन कौन सी बीमारी होती है?

रैबीज, मैगट्स, पारवो, कैनाइडिस्टेबर, लिप्रोस्पारोसिस नामक बीमारी तेजी से फैल रही है। कुत्तों के संपर्क में आने से ये बीमारियां इंसानों को भी अपना शिकार बना लेती हैं। कुत्ते के मुंह से टपकती लार, शरीर में पड़े कीड़े, बार-बार उल्टी दस्त होना, तेज बुखार। इन दिनों मैगट्स रोग कुत्तों में सबसे अधिक होता है।

कुत्ते के बाल झड़ना कैसे रोके?

कुत्ते को बाल झड़ने बचने के लिए ‌‌‌कुत्ते के बालों मे कंघी करें करना , कुत्ते के आहार को बदलना , नहलाते समय पानी मैं  नीबू डाल के नहलाना ,और नहलाने के बाद आप कुत्ते को ऑलिव ऑयल लगा के कुत्ते का बाल झड़नारोक सकते हो l

अन्य पोस्ट भी पढ़े :-

One comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.